ज्वारीय वन क्या है? ज्वारीय वन के बारे में पूरी जानकारी

नमस्कार आज हम बात करने वाले है, ज्वारीय वन के बारे में आपको हम आज ज्वारीय वन क्या है के बारे में जानकारी देने के साथ ही कुछ जरूरी जानकारी इस ब्लॉग में देने वाले है। जैसे – ज्वारीय वन कहाँ है, ज्वारीय वन की विशेषता बारे में, और भी बहुत सारी जानकारी आज के इस ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है, में हम आपको देने वाले है। यदि आप चाहते है, की आपको ज्वारीय वन के बारे में वो जरूरी जानकारी जो बहुत ही कम लोगो को पता है, यदि आप जानना चाहते है, तो आप हमारे साथ में बने रहिये।

ज्वारीय वन क्या है
ज्वारीय वन क्या है

भारत में वन कहाँ पर पाएं जाते है, भारत के किन राज्यों में वन ज्यादा पाएं जाते है, इसके बारे में जानकारी के साथ ही आज के यह ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है के बारे में आपको सारी जानकारी वनो के बारे में हम देने की कोशिश करने वाले है। ज्वारीय वन क्या है के बारे में बहुत बार परीक्षाओ में पूछा जाता है, अधूरी जानकारी होने के करण बहुत सारे Student ज्वारीय वन के बारे में परीक्षा में नहीं लिख पाते है, यदि आप चाहते है, की आपको ज्वारीय वन क्या है के इस ब्लॉग में दी जाने वाली सारी जानकारी प्राप्त हो तो आप हमारे ब्लॉग को पूरा पढ़े।

वन के बारे में

वन को एक ऐसे विशाल क्षेत्र के रूप में संदर्भित किया जाता है, जिसमे विभिन्न प्रकार के पेड – पौधे आते है। सरल शब्दों में यदि हम वन को समझे तो वन एक ऐसा क्षेत्र होता है, जहां पर पेड – पौधे की संख्या बहुत ही ज्यादा होती है, पेड – पौधे से भरे हुए इस दिव्य आवरण को हम पर्यावरण कहते है, पर्यावरण के इस दृश्य को वन कहा जाता है। यह नजारा वन्य प्राणियों और पशु – पक्षीयो के लिए आवास होता है। वनो से वायु शुद्ध होती है, साथ ही वनो में रहने वाले व्यक्ति को स्वस्थ ओर स्फूर्तिवान माना जाता है।

ज्वारीय वन क्या है

ज्वारीय वन को मैंग्रोव वन के नाम से भी जाना जाता है। भारत में ज्वारीय वन अंडमान निकोबार द्वीप समूह, और पश्चिमी बंगाल के डेल्टाई भागो में पाए जाते है। अब आप सोच रहे होंगे की इस दुनिया में कितने प्रतिशत ज्वारीय वन है, जानकारों की यदि हम माने तो उनके अनुसार संसार के कुल वन क्षेत्र का 7 प्रतिशत है। पर्यावरण के लिए वन सबसे महत्वपूर्ण माने जाते है। भारत में वैश्विक वन का क्षेत्रफल 2% है। ज्वारीय वन के बारे में कुछ जरूरी जानकारी इस प्रकार है :-

  • भारत के 6,700 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में ज्वारीय वन है।
  • मध्यप्रदेश वन क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा राज्य है।
  • भारत में सबसे ज्यादा उष्णकटिबंधीय वन पाए जाते है।
  • ज्वारीय वन कृष्णा, गोदावरी, कावेरी, महानदी के डेल्टाई भागो में भी पाए जाते है।
  • ज्वारीय वन में सुंदरी वृक्ष पाया जाता है।

ज्वारीय वन की विशेषता

हमने ऊपर आपको ज्वारीय वन क्या है इसके बारे में जानकारी बताई है, चलिए अब हम आपको ज्वारीय वन की विशेषता के बारे में बताते है। ज्वारीय वन की विशेषता इस प्रकार है :-

  • ज्वारीय वन का प्रमुख वृक्ष सुंदरी वृक्ष को माना जाता है।
  • ज्वारीय वन ऐसे वन होते है, जो समुद्र और नदियों के तट के किनारे पाए जाते है।
  • ज्वारीय वन को व्यापारिक दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • ज्वारीय वन मीठे ताजे पानी के साथ – साथ खारे पानी में भी पनप सकते है।

ज्वारीय वन के प्रमुख वृक्ष

आपने ज्वारीय वन क्या है के बारे में अच्छे से जान लिया है, तो चलिए अब हम आपको ज्वारीय वन के प्रमुख वृक्ष के बारे में बताते है, क्या आपको ज्वारीय वन के वृक्षों के बारे में जानकारी है, यदि आपको ज्वारीय वनो के प्रमुख वृक्षों के बारे में पता है, तो अच्छी बात है, लेकिन यदि आपको ज्वारीय वन के वृक्षों के बारे में नहीं पता तो आप चिंता ना करे हमने निचे ज्वारीय वन के प्रमुख वृक्षों के बारे में बताया हुआ है :-

  • बबूल
  • बेर
  • खैर
  • नागफनी
  • कीकर
  • सुंदरी।

यह भी पढ़े :-

Conclusion

आज हमने वनो के बारे में इस ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है में आपको बताने की कोशिश की है। हमने आपको इस ब्लॉग के माध्यम से बताया की वन किसे कहते है, ज्वारीय वन क्या है, ज्वारीय वन की विशेषता के बारे में बताते हुए आपको हमने ज्वारीय वन के प्रमुख वृक्षों के बारे में भी जानकारी इस ब्लॉग के माध्यम से बताई है। हमारा विश्वास है, की यदि आपने हमारे ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है को अच्छे से पढ़ा होगा, तो आपको हमारे ब्लॉग में दी गयी सारी जानकारी पता चल गयी होगी।

उम्मीद है, की आपको हमारे इस ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है में वो जानकारी जिसके बारे में आप जानना चाहते थे। आपको प्राप्त हो चुकी होगी, यदि आपको हमारा यह ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है पसंद आया हो, तो आप हमें Comment करे। साथ ही अपने दोस्तों को यह ब्लॉग ज्वारीय वन क्या है Whatsapp, Facebook पर Share करे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *