स्वर के कितने भेद होते हैं | Sawar ke kitne bhed hote hain

नमस्कार दोस्तों आजके इस ब्लॉग में हम बात करने जा रहे हैं हिंदी भाषा के बहुत ही महत्वपूर्ण स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain ) के बारे में जान्ने वाले हैं ।

स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain )
sawar ke kitne bhed hote hain

आजके इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे की स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain ) और स्वर की परिभाषा क्या है, इत्यादि ।

आइये अब जानते हैं की स्वर की परिभाषा क्या होती है:

स्वर की परिभाषा

स्वर की परिभाषा कुछ इस प्रकार है की अगर किसी वर्ण का उच्चारण किसी दूसरे वर्ण की सहायता के बिना किया जाता है, स्वर कहलाता है । कुल स्वरों की संख्या 11 (ग्यारह) होती है ।

कुल स्वर कुछ इस प्रकार है:

अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ ।

अब आइये जानते हैं की स्वर के कितने भेद होते हैं, जानने के लिए इस ब्लॉग को पूरा जरूर पढ़ें क्योंकि हमने इस ब्लॉग में आपको बड़ी ही आसानी से समझाने के लिए स्वरों के बारे में बताया है ।

Read more: Percentage kaise nikalte हैं

स्वर के कितने भेद होते हैं ( Sawar ke kitne bhed hote hain )

उच्चारण में लगने वाला जो समय होता है, उसके अनुसार स्वर के 3 भेद होते हैं ।

ये तीनो स्वर कुछ इस प्रकार है:-

  • ह्रस्व स्वर
  • दीर्घ स्वर
  • प्लुत स्वर

ये भी पढ़ें: कारक किसे कहते हैं और इसके भेद

चलिए अब इन तीनो स्वरों को विस्तार से अलग अलग जानने का प्रयास करते हैं:

1. ह्रस्व स्वर

ऐसे स्वर, जिनका उच्चारण करने में बहुत ही कम समय लगता है, ह्रस्व स्वर कहलाते हैं । ये स्वर चार होते हैं, जो इस प्रकार से हैं:

अ, इ, उ, ऋ

आइये अब हम दूसरे स्वर के बारे में चर्चा करते हैं:

2. दीर्घ स्वर

ऐसे स्वर, जिनका उच्चारण करने में ‘ह्रस्व स्वर’ की तुलना में दोगुना समय लगता है, वे स्वर दीर्घ स्वर कहलाते हैं । इन स्वरों की संख्या 7 है:

आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ ।

3. प्लुत स्वर

ऐसे स्वर, जिनका उच्चारण करने में ‘ह्रस्व स्वर’ की तुलना में तीन गुना समय लगता हो, वे स्वर प्लुत स्वर कहलाते हैं । इस स्वर को ‘S’ से दर्शाते हैं । इसका उपयोग जोर से गाने, पुकारने या रोने के लिए किया जाता है, उदहारण के लिए: ओSम नमः शिवाय ।

Conclusion

कुल 11 स्वरों में से 4 स्वर ऐसे हैं जिनका उच्चारण करते समय बहुत ही काम समय लगता है जैसे अ, इ, उ, ऋ ह्रस्व स्वर और ऐसे स्वर जिनका उच्चारण करने में ह्रस्व स्वर की तुलना में अधिक समय लगता है जैसे आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ दीर्घ स्वर के अंतर्गत आते हैं । साथ ही जिन स्वरों का उच्चारण करते समय दीर्घ स्वर की तुलना में भी अधिक समय लगता हो वह प्लुत स्वर कहलाते हैं ।

आशा करता हूँ की आपको हमारा ये ब्लॉग स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain ) पसंद आया होगा और इससे आपको जानकारी मिली होगी । स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain ) ब्लॉग को पढ़कर आपको कैसा लगा ये हमें निचे कमेंट करके जरूर बताएं ताकि हम आपके लिए ऐसी ही नयी नयी जानकारियां लाते रहे । अगर आपके मन में स्वर के कितने भेद होते हैं ( sawar ke kitne bhed hote hain ) टॉपिक पर कुछ डाउट है तो आप निचे कमेंट में हमसे पूछ सकते हैं, हम आपके कमेंट का रिप्लाई जल्द से जल्द करेंगे ।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *