भारत की कुल जनसँख्या कितनी है | 2021 के अनुसार

भारत की कुल जनसँख्या कितनी है, इस विषय के बारे में हमें सामाजिक विज्ञान और अन्य पुस्तकों में बताया जाता है । हमारे भारत देश की कुल जनसँख्या कितनी है, इस बारे में हमें पता होना बहुत ही जरुरी होता है क्योंकि ये प्रश्न बहुत साड़ी परीक्षाओं में अक्सर पूछा जाता है। हमें परीक्षाओं को साइड में रखकर भी इस बात का पता होना चाहिए की भारत की कुल जनसँख्या कितनी है, क्योंकि इससे हमारा सामान्य ज्ञान का पता चलता है ।

तो दोस्तों, आजके इस ब्लॉग में हम आपके लिए इसी प्रश्न “भारत की कुल जनसँख्या कितनी है” के बारे में पूरी जानकारी लेकर आये हैं जिसको पढ़ने के बाद आपको भारत देश की जनसँख्या और भारत देश में कोनसा राज्य जनसँख्या की दृष्टि से बड़ा और कोनसा जनसँख्या की दृष्टि से छोटा है, ये भी जानने को मिल जायेगा, इसलिए इस ब्लॉग को शुरू से लेकर अंत तक पूरा जरूर पढ़ें ।

भारत की कुल जनसँख्या कितनी है

दोस्तों भारत की जनसँख्या को मापने के लिए एक नाम दिया गया है जिसे जनगणना कहते हैं, भारत देश में जनगणना यानी जनसँख्या की गणना हर 10 साल में होती है, मतलब की हमारे देश में जनसँख्या की गणना हर 10 वर्षों के बाद की जाती है। आपको बता दें की भारत देश में आखिरी जनगणना सन 2011 में की गयी थी, उस जनगणना के आंकड़ों के अनुसार उस समय भारत देश की जनसँख्या करीब 1,210,193,422 (121 करोड़) थी।

2011 के अनुसार भारत देश की कुल जनसँख्या, पुरे विश्व की कुल जनसँख्या के 17% थी। हमारा देश भारत जनसँख्या की दृष्टि से दूसरे स्थान पर आता है, साथ ही आपको बता दें की भारत देश, क्षेत्रफल की दृष्टि से विश्व का सातवां देश है।

जनगणना की मदद से कुछ इस तरह का डाटा इकठ्ठा किया जा सकता है जिससे की हम उस देश के भविष्य को समझ सकते हैं, किसी भी देश की जनगणना और साक्षरता बहुत ही मायने रखती है।

चलिए सबसे पहले हम ये जान लेते हैं की भारत की कुल जनसँख्या कितनी है:

भारत की कुल जनसँख्या कितनी है

दोस्तों, जैसा की आपने ऊपर पढ़ ही लिया है की 2011 की जनगणना के अनुसार भारत देश की कुल जनसँख्या 121 करोड़ थी, किन्तु अगर आजकी बात करें तो हम आपको बता दें की जनगणना प्रत्येक 10 वर्षों में की जाती है, और अभी जनगणना होना बाकी है, परन्तु कुछ तथ्यों का अनुमान है की भारत देश की जनसँख्या 2021 में करीब 140 करोड़ है। ये अंदाजा लगाया जा रहा है की 2024 तक भारत सबसे ज्यादा जनसँख्या वाला देश बन चूका होगा।

आपको बता दें की 2011 की जनगणना के बाद ये अनुमान लगाया जा रहा था की भारत की जनसँख्या दूसरे स्थान से 2027 तक पहले स्थान पर आ जाएगी, परन्तु अब के आंकड़ों की मानें तो ये अनुमान लगाया जा रहा है की 2024 तक ही भारत जनसँख्या की दृष्टि से पहला स्थान प्राप्त कर ही लेगा।

जैसा की आप जानते हैं की भारत देश की कुल जनसँख्या पुरे विश्व की जनसँख्या का लगभग 17% है पर भाग केवल 2.4 है। इससे हम भारत देश के जनसँख्या घनत्व का अंदाजा बखूबी लगा सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

भारत में कितने राज्य हैं

विश्व में कितने देश हैं

2011 की जनगणना हमारे देश की 15 वी जनगणना थी जिसके अनुसार भारत देश का जनसँख्या घनत्व लगभग 382 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर था। और ये जनसँख्या घनत्व हमेशा बढ़ता ही जायेगा क्योंकि जनसँख्या वृद्धि होती जा रही है। 2011 की जनगणना के अनुसार लिंगानुपात 940 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष था।

जनसँख्या की दृष्टि से भारत के सबसे छोटे और बड़े राज्य

भारत की कुल जनसँख्या कितनी है, ये जानने के बाद अब आपको ये बता देते हैं की जनसँख्या की दृष्टि से भारत के सबसे छोटे और सबसे बड़े राज्य कोनसे हैं:

जनसँख्या की दृष्टि से भारत के सबसे छोटे और बड़े राज्य

जनसँख्या की दृष्टि से भारत देश का सबसे छोटा राज्य सिक्किम है जो की भारत के पूर्वोत्तर में बसा हुआ है। साथ ही आपको ये भी बता दें की जनसँख्या की दृष्टि से भारत देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तरप्रदेश है। उत्तरप्रदेश में भारत के सभी राज्यों की तुलना में सबसे ज्यादा जनसँख्या है।

भारत की कुल जनसँख्या कितनी है, इस विषय पर हमारा ये ब्लॉग आपको कैसा लगा और आपको इस ब्लॉग में क्या कुछ नया जानने को मिला? ये हमें निचे कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही हमें आप किसी प्रकार का सुझाव भी दे सकते हैं। भारत की कुल जनसँख्या कितनी है, इस विषय से रिलेटेड आपके मन में अगर कुछ डाउट है तो वो भी आप हमसे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, हम आपके कमेंट का रिप्लाई jald से जल्द करेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *