साहित्य लहरी किसकी रचना है ? | sahitya lahari kiski rachna hai

आपका सवाल है, की साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) क्या इसके बारे में आप जानना चाहते है, यदि हां, तो आप हमारे साथ में बने रहिये, क्योकि आज हम बात करने वाले है साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के बारे में आपको हम इस ब्लॉग में साहित्य लहरी से जुड़े कुछ तथ्य के बारे में भी जानकारी देने वाले है, यदि आप चाहते है, की आपको इस ब्लॉग साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) में वो जानकरी जो आप जानना चाहते है, आपको मिले तो आप हमारे साथ में बने रहिये।

sahitya lahari kiski rachna hai
sahitya lahari kiski rachna hai

साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के बारे में बहुत बार परीक्षाओ में पूछा जा है, यह जनरल Knowlage का प्रश्न साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के बारे में जानकारी आपको रखनी चाहिए। अब हम बिना किसी देरी के जानकारी को आगे की और लेके जाते है।

साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai)

साहित्य लहरी 118 पदों के महाकवि सूरदास की रचना है। साहित्य लहरी की इस रचना के अंतिम पद में सूरदास का वंशवृक्ष दिया हुआ है। जिसके कारण सूरदास का नाम सूरजदास है। जानकारों की अगर हम माने तो ऐसा बताया जाता है, की सूरदास चंदबरदाई के वंशज है। कृष्ण भक्ति की अजस्र धरा को प्रवाहित करने वाले भक्त कवियों में बहुत ही ज्यादा सर्वोपरि है।

  • सूरदास का जन्म 1478 में रुनकता के शहर में हुआ था।
  • सूरदास के पिता का नाम रामदास बैरागी था।
  • सूरदास की माता का नाम जमुनादास था।
  • सूरदास के नवम स्कंध में राम कथा का वर्णन है।
  • सूरदास के गुरु का नाम वल्लभाचार्य था।

साहित्य लहरी से जुड़े तथ्य

हमने अभी तक जाना की साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) अब हम साहित्य लहरी से जुड़े हुए ऐसे तथ्य के बारे में जानने वाले है, जो बहुत ही Important है:-

  • साहित्य लहरी में 118 पदों की एक लघु रचना बताई गयी है।
  • सूरदास की सुर सारावली में 1107 छंद है।
  • साहित्य लहरी में सुर के दृस्टि कूट पद संकलित है।
  • सूरसागर का मुख्य वर्णन श्री कृष्ण की लीलाओ का रहा है।
  • सूरदास ब्रज भाषा में रचना करने वाले कवी माने जाते है।

यह भी पढ़े :-

Conclusion

हमने आज के इस ब्लॉग साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के माध्यम से सूरदास के बारे में कुछा जरूरी जानकारी जैसे – सूरदास के माता – पिता का नाम, सूरदास का जन्म स्थल, साहित्यिक पदों की लघु रचना आदि जानकारी हमने आपको इस ब्लॉग साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के माध्यम से बताई है।

यदि आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो, तो आप अपने मित्रो को हमारा ब्लॉग साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) Whatsaap, Facebook, पर Share करे। जिससे उनको भी साहित्य लहरी किसकी रचना है (sahitya lahari kiski rachna hai) के बारे में जानकारी मिल सके।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *